चमोली

छात्र-छात्राओं के जिद के सामने झुकी सरकार: फैसला हुआ वापस

राजीव गांधी अभिनव आवासीय विद्यालयों को बंद करने का फैसला लिया गया वापस

जोशीमठ: राजीव गांधी अभिनव आवासीय विद्यालयों को अटल उत्कृष्ट विद्यालय और सामान्य राजकीय इंटर कॉलेजों में विलय किए जाने के आदेश के बाद पूरे प्रदेश में छात्र-छात्राओं, अभिभावकों एवं जनप्रतिनिधियों के जबरदस्त विरोध के फल स्वरुप सरकार बैकफुट पर आ गई है। महानिदेशक विद्यालय शिक्षा की ओर से पत्र जारी कर प्रदेश में संचालित 4 राजीव गांधी अभिनव आवासीय विद्यालयों का राजकीय इंटर कॉलेजों में विलय अग्रिम आदेशों तक रोक दिया गया है। माना जा रहा है कि छात्र छात्राओं के जबरदस्त विरोध के फल स्वरुप सरकार द्वारा यह निर्णय लिया गया है। गौरतलब है कि कुछ दिन पूर्व शासन द्वारा राजीव गांधी अभिनव आवासीय विद्यालयों को सामान्य इंटर कालेज में मर्ज किये जाने का शासनादेश जारी हुआ था।

 

अपने विद्यालय का राजकीय इंटर कॉलेज में विलय हो जाने का छात्र छात्राएं पिछले काफी दिनों से विरोध कर रहे थे। जोशीमठ स्थित राजीव गांधी अभिनव आवासीय विद्यालय के बच्चों की एसडीएम कार्यालय के बाहर ही विरोध स्वरूप कक्षाएं संचालित करने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर जबरदस्त वायरल हो रही थी। पौड़ी के जयहरीखाल में भी विद्यालयी छात्र छात्राओं की स्थानीय विधायक से स्कूल बंद किए जाने को लेकर तीखी नोकझोंक हुई थी। कुमाऊं मंडल में भी राजीव गांधी विद्यालयों को बंद किए जाने का जबरदस्त विरोध अभिभावकों और छात्र-छात्राओं द्वारा किया जा रहा था। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शिक्षा जगत से जुड़े हुए अनेक लोग सरकार के इस कदम की भर्त्सना कर रहे थे। इस संबंध में पूर्व मुख्यमंत्री श्री हरीश रावत द्वारा भी सोशल मीडिया के जरिए सरकार द्वारा लिए गए इस फैसले की निन्दा की गयी। चौतरफा विरोध होता देख सरकार द्वारा फिलहाल इस फैसले को रोक लिया गया है। गौरतलब है कि आपके प्रिय समाचार पोर्टल uk न्यूज़ 18 ने खबर को सबसे पहले ब्रेक किया था।

स्कूलों का राजकीय इंटर कॉलेज मे विलय करने के विरोध में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं, अभिभावकों के साथ स्थानीय जनप्रतिनिधि ब्लाक प्रमुख जोशीमठ श्री हरीश परमार, नगर पालिका अध्यक्ष जोशीमठ श्री शैलेंद्र सिंह पवार, भाकपा से वरिष्ठ नेता श्री अतुल सती समेत क्षेत्र की तमाम जनता विरोध कर रही थी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.