रूद्रप्रयाग

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने यात्रा व्यवस्थाओं से जुड़े अधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक।

रुद्रप्रयाग । एक दिवसीय जनपद भ्रमण पर पहुंचे लोक निर्माण, पर्यटन, सिंचाई व संस्कृति मंत्री मा. सतपाल महाराज ने केदारनाथ धाम यात्रा को सुव्यवस्थित ढंग से संचालित करने के लिए विभिन्न विभागों द्वारा की जा रही तैयारियों एवं व्यवस्थाओं के संबंध में जिला कार्यालय सभागार में यात्रा व्यवस्थाओं से जुड़े अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की।
बैठक में मा. मंत्री ने संबंधित अधिकारियों से कहा कि चारधाम यात्रा वर्तमान में अपने चरम में है तथा भारी संख्या में श्रद्धालु चारधाम यात्रा पर आ रहे हैं इसके लिए यह जरूरी है कि केदारनाथ धाम यात्रा में आने वाले तीर्थ यात्रियों को किसी भी प्रकार की कोई समस्या एवं परेशानी न हो इसके लिए जिस स्तर पर जो भी व्यवस्थाएं एवं सुविधाएं उपलब्ध कराई जानी हैं वह व्यवस्था समय से सुनिश्चित कराई जाए ताकि यात्रियों को किसी प्रकार की कोई असुविधा व परेशानी न हो। उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा में आने वाले तीर्थ यात्रियों के लिए सरकार द्वारा एक दिन में दर्शन के लिए संख्या निर्धारित की गई है जिसमें यमुनोत्री में 5 हजार गंगोत्री में 8 हजार केदारनाथ में 13 हजार तथा बद्रीनाथ में 16 हजार श्रद्धालुओं को दर्शन करने की संख्या निर्धारित की गई है तथा इसी के आधार पर ही तीर्थ यात्रियों को दर्शन कराने की व्यवस्था की जाए एवं आॅनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया को सुव्यवस्थित ढंग से संचालित करने के निर्देश दिए गए ताकि किसी यात्री को किसी तरह की परेशानी न हो। उन्होंने सभी अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए हैं कि कोई भी अधिकारी अपना फोन स्विच आॅफ नहीं रखेंगे तथा जन प्रतिनिधियों का फोन आने पर फोन को अनिवार्य रूप से रिसीव करेंगे। यदि किन्हीं कारणों से फोन नहीं उठा पाते हैं तो काॅल बैक करना सुनिश्चित करें। तथा जन प्रतिनिधियों द्वारा जो भी समस्या से अवगत कराया जाता है उसको तत्काल कार्यवाही करना सुनिश्चित करें।

जिला कार्यालय के सभागार में अधिकारियों की समीक्षा बैठक लेते हुए महाराज

स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा करते हुए मा. मंत्री द्वारा मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए हैं कि यात्रा में आने वाले तीर्थ यात्रियों का उचित स्वास्थ्य परीक्षण कराया जाए एवं जिन व्यक्तियों को हाइपर टेंशन, अस्थमा आदि रोगों से ग्रस्त हैं उनका स्वास्थ्य परीक्षण के उपरांत ही यात्रा करने की अनुमति दी जाए तथा यह भी प्रचारित प्रसारित किया जाए कि जिनको स्वास्थ्य संबंधी परेशानी है वह अपना स्वास्थ्य परीक्षण करने के उपरांत ही यात्रा पर आएं। उन्होंने यात्रा मार्ग व केदारनाथ धाम में पर्याप्त मात्रा में आॅक्सीजन सिलेंडर रखने के भी निर्देश दिए। उन्होंने यात्रा मार्ग में संचालित हो रहे घोड़े-खच्चरों का ठीक ढंग से संचालन करने के निर्देश दिए तथा समय-समय पर स्वास्थ्य परीक्षण कराने के निर्देश दिए तथा घोड़े-खच्चर संचालक द्वारा उसका ठीक ढंग से देखभाल करते हुए उचित आहार की व्यवस्था भी सुनिश्चित कराई जाए। यदि किसी घोड़े-खच्चर की मृत्यु उसके मालिक की लापरवाही से होती है तो उसके विरुद्ध आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित की जाए तथा मृत्यु होने वाले घोड़े-खच्चरों का दाह-संस्कार की व्यवस्था भी ठीक ढंग से की जाए। उन्होंने लोनिवि के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि यात्रा मार्ग में जिन स्थानों पर रैलिंग टूटी हुई है उन स्थानों पर यात्रियों की सुरक्षा के दृष्टिगत रैलिंग लगाने का कार्य सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने रामबाड़ा में बनाए जा रहे पुल का निर्माण भी शीघ्रता से शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए गए। ऊखीमठ-कुंड के पास क्षतिग्रस्त सड़क का निर्माण कार्य त्वरित गति से करते हुए शीघ्रता से शीघ्र यातायात के लिए शुरू करने के निर्देश एनएच के अधिकारियों को दिए। इसके साथ यात्रा मार्ग में बेहतर साफ-सफाई व्यवस्था एवं निकलने वाले कूड़े का उचित निस्तारण करने के निर्देश दिए गए तथा यात्रा मार्ग एवं केदारनाथ धाम में पर्याप्त शौचालयों की व्यवस्था कराने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए ताकि आने वाले श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी व असुविधा न हो। तथा यात्रा मार्ग में पार्किंग व्यवस्था भी सुव्यवस्थित ढंग से रखने के निर्देश दिए ताकि जाम की स्थिति न हो। उन्होंने यात्रा मार्ग व केदारनाथ धाम में विद्युत आपूर्ति एवं पेयजल व्यवस्था को दुरस्त रखने के भी निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए।
इस अवसर पर मा. मंत्री ने कहा कि केदारनाथ धाम में यात्रियों की सुविधा के लिए रोप-वे निर्माण का कार्य कराया जाएगा जिसके लिए टेंडर की कार्यवाही की जाएगी तथा पुराने पैदल मार्ग को भी बनाने की कार्यवाही की जाएगी। इसके साथ ही यात्रा मार्ग में यात्री शैड बनाए जाएंगे जिससे कि यात्रियों को बरसात में कोई परेशानी न हो। इसके साथ ही केदारनाथ धाम में सुशांत सिंह राजपूत की स्मृति में फोटोग्राफी प्वाइंट बनाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा केदारनाथ में बहुत अच्छी फिल्म बनाई गई है। उन्होंने कहा कि फोटोग्राफी प्वाइंट बनाने से लोग फोटो खिंचवाएंगे तथा वाॅलीवुड को भी उत्तराखंड की सुंदर वादियों की ओर आकर्षित करते हुए वह यहां बेहतर फिल्म बनाएंगे जिससे कि उत्तराखंड को पर्यटन की दृष्टि से और विकसित किया जा सके।
जनपद आगमन पर जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने मा. मंत्री जी का पुष्पगुच्छ भेंट कर स्वागत किया। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने मा. मंत्री को आश्वस्त किया है कि उनके द्वारा जो भी दिशा-निर्देश दिए गए हैं उनका सभी अधिकारियों से अनुपालन सुनिश्चित कराया जाएगा। जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि बैठक में मा. मंत्री द्वारा बैठक में जो भी निर्देश दिए गए हैं उन निर्देशों का सभी अधिकारी तत्परता से अनुपालन करते हुए जो भी कार्यवाही की जानी हैं वह दो-तीन के भीतर पूर्ण करना सुनिश्चत करें।
पुलिस अधीक्षक आयुष अग्रवाल द्वारा केदारनाथ यात्रा हेतु की गई सुरक्षा एवं यातायात व्यवस्था के संबंध में मा. मंत्री को अवगत कराया गया।

बैठक के दौरान उपस्थित अधिकारी गण

बैठक में जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती अमरदेई शाह, विधायक रुद्रप्रयाग श्री भरत सिंह चौधरी, अध्यक्ष बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति अजेंद्र अजय, जिला अध्यक्ष भाजपा दिनेश उनियाल, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य महावीर पंवार, मंडल अध्यक्ष रुद्रप्रयाग सुरेंद्र रावत, ग्रामीण सुरेंद्र जोशी, तल्ला नागपुर सुभाष पुरोहित, मीडिया प्रभारी सतेंद्र बर्त्वाल , अपर जिलाधिकारी दीपेंद्र सिंह नेगी, उप जिलाधिकारी रुद्रप्रयाग अपर्णा ढौंडियाल, ऊखीमठ जितेंद्र वर्मा, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. बी.के. शुक्ला, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डाॅ. आशीष रावत, अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत राजेश कुमार, परियोजना निदेशक रमेश चन्द्र, जिला पर्यटन अधिकारी सुशील नौटियाल, अधिशासी अभियंता एनएच वंदिता, लोनिवि निर्भय सिंह सहित संबंधित अधिकारी एवं जनप्रतिनिधि मौजूद रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.