रूद्रप्रयाग

गौरीकुंड से हो श्रीकेदारनाथ रोपवे का संचालन, ग्रामीणों व व्यापारियों ने की मांग

श्री केदारनाथ धाम के लिए स्वीकृत रोपवे योजना

केदारनाथ धाम पैदल यात्रा का प्रमुख पड़ाव गौरीकुंड,     गौरीकुंड में  प्राचीन गौरीमाई मन्दिर व तप्तकुंड 

फाटा।  श्री केदारनाथ धाम यात्रा को सुगम बनाने हेतु रोपवे प्रोजेक्ट को बनाने की मांग जोर पकड़ने लगी है। स्थानीय ग्रामीण व व्यापारी ने रोपवे निर्माण को गौरीकुंड से केदारनाथ बनाने की मांग की है।
मनन्नीय प्रधानमंत्री जी द्वारा पूर्व में अपने केदारनाथ दौरे के  समय स्वीकृति की घोषणा की गई। जिसका पुनः सर्वे सोनप्रयाग से श्री केदारनाथ जी के लिए किया जा रहा है।
गौरीकुंड के वरिष्ठ व्यवसायी व निवासी कुलानन्द गोस्वामी ने बताया कि ग्रामीणों व व्यपारियों द्वारा सरकार से मांग की गयी है कि रोपवे मार्ग की सर्वे गौरीकुंड से की जाये।
गौरीकुंड पौराणिक काल से ही केदारनाथ धाम की यात्रा के लिए आने वाले तीर्थयात्रियों का प्रमुख पड़ाव रहा है। गौरीकुंड में प्राचीन गौरीमाई मन्दिर एव तप्तकुंड (गौरीकुंड) ओर तर्पण कुण्ड है, जिनका केदारनाथ धाम यात्रा में विशेष महत्व है, वर्तमान में जो रोपवे सर्वे की जा रही है उसमें गौरीकुंड की उपेक्षा की गई है। उन्होंने बताया कि पूर्व में भी गौरीकुंड से ही रोपवे बनाने हेतु सरकार द्वारा कहा गया था। परन्तु वर्तमान में सोनप्रयाग से केदारनाथ जी के लिए जिस जमीन का सर्वे रोपवे के लिए किया गया है उस मार्ग पर सोनप्रयाग से गौरीकुंड के मध्य सम्पूर्ण क्षेत्र भूस्खलन प्रभावित है।
गौरीकुंड के ग्रामीणों द्वारा श्री केदारनाथ जी के लिए रोपवे का निर्माण गौरीकुंड से करने की मांग की है, इस रोपवे के निर्माण हेतु जो भी भूमि की आवश्यकता होगी सभी ग्रामीण सहयोग हेतु ततपर हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.