रूद्रप्रयाग

पीठासीन अधिकारियों को जिला निर्वाचन अधिकारी की उपस्थिति में दिया गया प्रशिक्षण

अगस्तमुनि क्रीड़ा भवन में चलाया गया प्रशिक्षण कार्यक्रम

विधानसभा चुनावों को सफलतापूर्वक सम्पन्न कराना लक्ष्य

रुद्रप्रयाग।  विधान सभा सामान्य निर्वाचन 2022 को शांतिपूर्ण, निष्पक्ष एवं सफलतापूर्वक संपादित कराने के लिए निर्वाचन कार्य हेतु तैनात किए गए पीठासीन अधिकारियों को अगस्त्यमुनि बहुउद्देश्यीय क्रीड़ा हाॅल में दो चरणों में 240 पीठासीन अधिकारियों को जिला निर्वाचन अधिकारी मनुज गोयल की उपस्थिति में प्रथम प्रशिक्षण दिया गया।
जिला निर्वाचन अधिकारी ने उपस्थित पीठासीन अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि निर्वाचन प्रक्रिया को संपादित करने में आर.ओ एवं पीठासीन अधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका है, तथा उन्हीं के द्वारा ही पूरी निर्वाचन प्रक्रिया संपादित की जानी है, इसके लिए यह जरूरी है कि जो जिम्मेदारी एवं दायित्व जिस अधिकारी को दी गई है, वह अपने दायित्वों का निर्वहन निष्ठा एवं ईमानदारी के साथ करें तथा उन्हें निर्वाचन प्रक्रिया को संपादित कराने के लिए जो प्रशिक्षण दिया जा रहा है उस प्रशिक्षण को स्वच्छ एवं प्रसन्न मन से गंभीरता के साथ ग्रहण करें, ताकि निर्वाचन के समय किसी भी प्रकार की कोई समस्या एवं परेशानी न आने पाए। उन्होंने यह भी कहा कि एक छोटी सी गलती एवं भूल पूरे निर्वाचन प्रक्रिया को बाधित कर सकती है, इसके लिए यह जरूरी है कि उन्हें जो प्रशिक्षण दिया जा रहा है उसे ठीक प्रकार से ग्रहण करें ताकि निर्वाचन को कुशलता के साथ संपादित किया जा सके। उन्होंने यह भी कहा कि किसी भी प्रकार की शंका होने पर अपनी शंका एवं समस्या का समाधान ट्रेनिंग दे रहे मास्टर ट्रैनरों द्वारा ही प्रशिक्षण के समय ही शंका का समाधान कर लिया जाए। अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की जानकारी ठीक ढंग से प्राप्त कर लें। सभी अधिकारी निर्वाचन प्रक्रिया को संपादित करने में आपसी समन्वय के साथ टीम भावना के साथ कार्य करें। जिला निर्वाचन अधिकारी ने प्रशिक्षण दे रहे मास्टर ट्रैनरों से सभी अधिकारियों का व्हट्स एप ग्रुप बनाने को कहा तथा उसमें निर्वाचन प्रक्रिया संपादित करने से संबंधित आवश्यक दिशा-निर्देश एवं जानकारी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। इस अवसर पर जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग के कैंप में जाकर प्रशिक्षणार्थियों के थर्मल स्क्रीनिंग एवं स्वास्थ्य परीक्षण की पूरी जानकारी लेने के साथ ही ई.वी.एम प्रशिक्षण का भी जायजा लेते हुए ई.वी.एम. प्रशिक्षण कक्ष में लगाई गई टेबिलों पर जाकर प्रशिक्षणार्थियों से सवाल-जवाब करते हुए व्यावहारिक प्रशिक्षण का गहनता से निरीक्षण किया।

मुख्य विकास अधिकारी/नोडल अधिकारी कार्मिक नरेश कुमार ने उपस्थित अधिकारियों से कहा कि सभी अधिकारी अपने दायित्वों एवं जिम्मेदारियों का निर्वहन गंभीरता से करें तथा उन्हें जो भी प्रशिक्षण एवं जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है उसे सभी अधिकारी ठीक ढंग से ग्रहण कर लें ताकि निर्वाचन प्रक्रिया को शांतिपूर्ण एवं कुशलता से संपन्न कराई जा सकें।


इसके साथ ही मास्टर ट्रेनर कपिल पाण्डेय, दीपक हटवाल, बी.एन. पुरोहित एवं किशन सिंह रावत ने उपस्थित पीठासीन अधिकारियों को व्यवहारिक एवं बीओ, सीओ एवं वीवीपेड्स मशीनों के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए माॅकपोल एवं मशीन को सील करने के संबंध में विस्तार से स्लाईड शो के माध्यम से जानकारी दी गई। इस अवसर पर पीठासीन अधिकारी एवं संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.